Core वेब वैटल्स क्या है?|Core web vitals kya hai

Core वेब वैटल्स क्या है?|Core web vitals kya hai और इससे ब्लॉग या वेबसाइट का रैंकिंग के द्रुष्टि से क्या फरक पडता है। इसको किस तरह फिक्स करना चाहिए इसको लेकर बहुत सारे नये ब्लॉगर्स के मन मे बहुत सारे सवाल आते होंगे।इन सवालों का जवाब देने के लिए यह मेरी छोटीसी पोस्ट है।अगर आपको इसके बारे में पहले से मालूम हो तो आप इसको स्किप करके जा सकते हो। इस आर्टिकल मे Core वेब विटल्स क्या है?|Core web vitals kya hai और यह किस तरह काम करता है और seo के हिसाब से इसका क्या रोल है ये सारी बाते बताने की इमानदारी से कोशिश करूंगा।

Core वेब वैटल्स क्या है?(Core web vitals kya hai):-

Core वेब विटल्स (Core web vitals) यह एक गूगल का ब्लॉग वेबसाइट या वेबसाइट को रैंक करना है या नही यह चेक करने का एक परामीटर है जिसके आधार पर ब्लॉग वेबसाइट को वेबसाइट को गूगल मे गूगल रैंक करता है।ऐसे गूगल किसी ब्लॉग पोस्ट को रैंक करने हजारो तरीकों से देखता है। ऐसे अपडेट्स साला मे एक बार या दो बार गूगल लाता ही है। core web vitals को गूगल ने एप्रील 2021 रोल आउट करना शुरू किया).

Post name
. Core web vitals

Core Web vitals मे LCP,FID और CLS का महत्वपूर्ण माना जाता है।अपना वेबसाइट इन तीनो मे अच्छा करता है तो अपना ब्लॉग को गूगल मे रैंक करने से कोई रोक नही सकता है।

Core वेब विटल्स क्या है?|Core web vitals kya hai
Core web vitals

अभी हम LCP,FID और CLS के बारे मे थोडा जानने के कोशिश करते है। कोर वेब वैटल समझने के लिए ये तीनो चीज समझना जरूरी है।

LCP (Largest Contentfull Paint)

LCP का अर्थ होता है अपना ब्लॉग मे सबसे बढा इमेज लोड होने मे कितने समय लेता है। मानलीजिए आपका ब्लॉग मे सबसे बढा इमेज लोड होने मे एक सेंकड लोड लेता है तो आपका ब्लॉग वेबसाइट या फिर वेबसाइट का LCP का स्कोर बढिया माना जाएगा।

अभी सवाल उठता है कि वेबसाइट का मिनिमम और मॉग्झिमम टाईम कितने सेंकद का होना चाहिए।इस तरह का सवाल एक नये ब्लॉगर्स ही नहीं बल्कि पूराने ब्लॉगर्स के मन भी आता है यह लाजिमी है क्योंकि हर ब्लॉगर को लगता है कि अपना ब्लॉग का स्पीड अच्छी हो। मै आपको बता दू कमसे कम एक सेंकड और ज्यादा से ज्यादा चार सेंकड का होना जरूरी है।

FID (First Input Delay)

FID का मतलब अगर आपका ब्लॉग को यूजर विजिट करता है और आपका ब्लॉग का बटन या फिर लिंक पर क्लिक करता है तो ब्राऊज़र कितने समय मे रिस्पांड करेगा इसी को FID कहते हैं। इस लिंक पर क्लिक करते ही कितने समय मे आपका ब्लॉग वेबसाइट लोड होता है यह आपका FID का स्कोर होगा। गूगल के हिसाब से FID का स्कोर 300 ms सेंकंसडस् चलेगा अगर इससे ज्यादा होता है तो आपको इस प्राबलेम को फिक्स करना चाहिए।

Cumulative layout shift मापता है की आपके वेबसाइट की विज्यूअल स्टेबिलिटी (visual stability) कितना है।

जितने आपके वेब साइट या वेब पेज  के एलिमेंट्स स्थिर होंगे आपके लिए उतना ही अच्छा होगा। गूगल के मुताबिक अगर आपके वेब साइट का CLS 0.1 से अधिक आ रहा हो तो आपको इसे सुधारना चाहिए।

आगे इसी Core Web Vitals के कम्पलीट गाइड में हम आपको Cumulative Layout Shift / CLS  के बारे में और भी डिटेल में बताएँगे।

यह CLS का प्राबलेम आपके साइट मे एड नेटवर्किंग के वजह से आ सकता है। गूगल के यूजर आपका साइट को विजिट किया है जब यूजर ने आपका साइट को विजिट किया तब किसी प्रकार का डिस्टपेंस नही था मगर थोडे देर के बाद कोई इमेज या विडोओ बीच में आता है तो ब्लॉग पोस्ट का टेक्स्ट नीचे खिसक जाता है इसमे यूजर का एक्सपिरिंअन्स खराब हो जाता है।अगर इसी तरह आपका ब्लॉग एलमेंट अस्थिर रहते है तो आपका CLS का स्कोर बढ जाएगा।

अभी अभी सवाल आता है इस तरह का समास्या एक ब्लॉगर कैसे सुलझाना चाहिए यह भी सीखना जरूरी होता है,यह कोर वेब वैटल का स्कोर यह ब्लॉग का रैंकिंग मे असर डालेगा। चलिए यह जानते है कि इसे कैसे फिक्स करे-

Core web vitals को कैसे फिक्स करे:-

Core web vitals मे LCP,FID और CLS ये तीन पॉरामीटर्स होते हैं।कोर वेब वैटल्स को फिक्स करना है इन तीनों को सही करना चाहिए।चलिए इन तीनो को एक के बाद एक फिक्स कैसे करते हैं यह जाननेका प्रयास करेंगे।

MR.Vyas

Core vitals के LCP स्कोर कैसे कम करे-

Core vitalas का स्कोर कम करने के लिए हमे अपना वेबसाइट का स्पीड बढाना होगा। वेबसाइट स्पीड इमेज टेक्स और कोडिंग के वजह से कम होता है। इस प्राबलेम को फिक्स करने के लिए हमे इमेज साईज, टेक्स फांट और कोडिंग रिड्यूस करना पडेगा।

इमेज/Images:-

LCP स्कोर बढने के लिए इमेज सबसे ज्यादा जिम्मेदार होता है इसलिए इमेज ब्लॉग मे अपलोड करते समय हमे इमेज पिक्सल साईज कम करना होगा।आपका साइट blogger.com मे हो या wordpress.org पे हो वर्डप्रेस मे यह प्राबलेम साल्व करने के लिए बहुत सारे आपशन्स है जिससे ब्लॉग का LCP का कम ह सकता है। इमेज कंप्रेस करने के लिए Google मे जाकर Google के सर्च बॉक्स मे Image congresser tool ऐसे टायप करके सर्च करे आपके समाने बहुत सारे ब्लॉग पोस्ट दिखाई देंगे

सारे लिंक मे से किसी एक लिंक पर क्लिक करके अपना इमेज का साइज का साइज करना चाहिए और बादमे अपना ब्लॉग मे अपलोड करना चाहिए। LCP का स्कोर बढना घटना इमेज अहम रोल होता है।अगर आप ब्लॉग वर्डप्रेस मे बनी है तो आप इमेज कंप्रेस करने के लिए प्लगिन्स का सहारा भी ले सकते हैं जैसै TinyPNG-JPEG,PNG &WebP image compression, Smush इनमे से आप एक प्लॉगिन को यूज करके इमेज का साइज रिड्यूस कर सकते हैं। मै आपको इन प्लगिन्स का स्क्रीन शाट भी दे रहा हूँ ताकि आपको प्लगिन्स इनास्टाल करने मे आसान हो।

Post name
Smush
Post name
TinyPNG
Post name
Web image converter plugin

मै अपना खुद का ब्लॉग मे TinyPNG का प्लॉगिन का यूज करता हूँ। आप अपना हिसाब से प्लॉगिन चाईस कर सकते हैं।यह करने से ही आपका काम हो जाएगा ऐसा नहीं है आपको और एक काम करना बाकी रहेगा जो कि महत्वपूर्ण है। अभी गूगल चाहता है कि इमेज का फार्मेट जैसै PNG JPEG और Webp यह जो webp फार्मेट है यह इस जमाने का इमेज फार्मेट है,गूगल भी इसी फार्मेट को चाहता है।अपना इमेजेस का webp फार्मेट मे कनवर्ट करने के लिए आपको WebP converter का प्लॉगिन का का इनास्टाल करना पडेगा।जो आपका पूरा इमेजेस का वेबपे इमेज फार्मेट मे कनवर्ट कर देगा। अभी हमनें इमेज को कैसे कंप्रेस करना है और उसे कैसे JPEG और PNG फार्मेट से Webp फार्मेट मे कैसे कनवर्ट करना है यह सीखा है।

यह भी पढे:– बेस्ट फ्री स्टाक फोटो साइट्स

यह भी पढे:-बेस्ट फ्री वर्डप्रेस थीम्स

अभी सवाल आता है अपने ब्लॉग जो टेक्स्ट है यानि टेक्स का फांट को कैसे रिड्यूस करे। कभी कभी ब्लॉग को ब्यूटीफुल बनाने के चक्कर मे नये नये फांट का इस्तेमाल करते हैं जिससे ब्लॉग या ब्लॉग वेबसाइट का स्पीड कम हो जाता है।तो फिर इसे कैसे फिक्स करे अगर आपको यह तरीका मालूम नही तो डरने का कोई बात नही मे आपको समझाके बतानेवाला हूँ।आयीए देखते वह कौनसा तरीका जिससे टेक्स कै रिड्यूस किया जा सकता है।

Text का पिक्सल रेड्यूस कैसे करे

टेक्स को रेड्यूस करने के लिए सबसे पहले अपना ब्लॉग का एडमिन प्लॉनल जाए। जिसके बाद अपियरेंस का आपशन पर क्लिक करे और आपको लेआउट का सेक्शन दिखाई देगा उस के क्लिक करे उसमे आपको टायफोग्राफी का आपशन जरूर दिखेगा।अभी आपको हेडिंग का फांट का का पिक्सेल कम करना चाहिए जैसै 22 फिक्सल है तो हमे 18 फिक्सल करना है।

फांट का स्टैल यानि सिंपल फांट ही रखना चाहिए जो सभी यूजर का मोबाइल मे अवाइलेबल हो। अगर आपका ब्लॉग मे जो फांट है है वह यूजर का मोबाइल मे नही है तो ब्राऊज़र क्या करेगा जहाँ मी आपका फांट मौजूद है वहां से डाऊनलोड करेगा जिसके लिए ब्लॉग लोड होने मे टाइम लेगा।इससे ब्लॉग का या वेबसाइट का LCP स्कोर बढेगा।

अगर आपको ऐसा लगता है कि, इस तरह का फांट रखना ही चाहिए और अपना ब्लॉग का LCP स्कोर कम भी करना है तो आपको एक प्लॉगिन का का इनास्टाल करना पढेगा जो इस तरह प्राबलेम को दूर कर सकता है। इसके लिए आपको Swap Google Fonts Display को अपने ब्लॉग मे इनास्टाल करना पढेगा।

जबभी यूजर आपका ब्लॉग को विजिट करता है जैसे ही ब्राऊज करेगा यह यूजर का मोबाइल या पीसी मे जो फांट है उसे आपका वेबसाइट का फांट मे कनवर्ट कर देगा जिससे आपका ब्लॉग का स्पीड बढेगा यानि जल्दी लोड होगा।जाहिर सी बात है इसमे आपका ब्लॉग का LCP स्कोर घटेगा।मै आपको इस प्लॉगिन का स्क्रीन शाट भी शेअर.करूंगा जिससे आप इस प्लॉगिन को आसानी से ढूंढ सके।

Post name
Swap Google Fonts Display

Cod को minimize कैसे करे

ब्लॉग का स्पीड को कम करने के लिए कोड का महत्वपूर्ण रोल होता है। इस कोड को मिनीमाइझ करना चाहिए इसके लिए Caching plugins का यूज करना होगा। कॉशिंग के बहुत सारे प्लगिन्स आते हैं प्लॉगिन का सेटिंग मे जाकर html,java script और CSS को मिनिमाइज करना होगा।यह काम करते ही आपका ब्लाग का स्पीड बढ सकता है।

Caching के लिए Wp super cache,light speed cache,Swift Performance और W3 Total cache ये टोटल फ्री प्लगिन्स है इनमे से किसी एक प्लॉगिन का इस्तेमाल करना चाहिए।अगर सही तरीके से सेटिंग्स करते है तो कुछ हद तक LCP स्कोर कम किया जा सकता है।

Post name
Wo Super cache
Post name
W3 Total cache
Post name
. Lite speed cache
Post name
. Swift performance

इनके अलावा कुछ पेड प्लॉगिन्स भी है जैसै Wp rocket इसको आप अपना ब्लॉग मे इस्तैमाल कर सकता है लेकिन यह फ्री नही है इसके आपको पैसा पे करना पडेगा।

कुछ होस्टिंग कंपनी अपने होस्टिंग के साथ कुछ कॉशिंग प्लॉगिन्स एनेबल करके रखता है।जैसे होस्टिंगर इस होस्टिंग इस.तरह की कंपनी के होस्टिंग मे अपना साइट होस्ट नही करना चाहिए।और इसी तरह अपना ब्लॉग मे कभी भी एक एक ही कॉशिंग प्लॉगिन यूज करना चाहिए।

ये सभी काम अच्छी तरह करने के बाद आपका FID और CLS का प्राबलेम भी दूर हो जाएगा।इन्हें ठिक करना हमारे हाथ मे नही है यह काम करते ही इनका प्राबलेम जल्दी आटोमेटिक जाएगा।

थीम को आप्टीमाईझ करो

थीम को अच्छी तरह आप्टीमाईझ करना जरूरी है क्यो कि गूगल का जब ब्लॉग को विजिट करता है तब सबसे पहले थीम ही ओपन होता है।अपना ब्लॉग का अच्छी तरह डिजाइन करके ने चक्कर मे ज्यादा मात्रा मे Java CSS स्टोर करते है जिससे ब्लॉग का स्पीड कम हो जाता है वह एस.सी.ओ. और रैकिंग के हिसाब अच्छी बात नही है।

ब्लॉग क CDN से कनेक्ट करे

ब्लॉग फास्ट लोड के लिए CDN से कनेक्ट करना होगा।आप अपना ब्लॉग को CLoud Flairऔर Hostry से अपना ब्लॉग को कनेक्ट करना है।जिससे अपना ब्लॉग का स्पीड बढता है।

ब्लॉग का LCS ,FID और CLS कैसे चेक करेअ?

LCS,FiD CLS चेक करने लि Gtmetrics मे जाकर चेक करना चाहिए जिस से हमे अपना ब्लॉग का LCS ,FID और CLS फाईंड करना चाहिए और जो अपना ब्लॉग का प्राबलेम है उन्हें फिक्स खरना चाहिए।

ऐसें तो बहुत सारे प्लॉगिन्स है लेकिन हमे जो प्लॉगिन इन्स्टॉल करना है। उन्हे ही इनास्टाल करना चाहिए और समय समय पर टाईमिंग चेंज होता रहता है।इस टूल्स हमे अपना हिस्ट्री समझ में आता है। एक एक पार्ट को केअरफुली देखना है और उसे साल्व करना है।

दोस्तो ये सब करने के बावजूद भी ब्लॉग लोड होने मे ज्यादा समय लेता है।तो अपना होस्टिंग को अपग्रेड करना पडेगा। क्यों कि अपना ब्लॉग का LCP, FiD और CLS का स्कोर बढाने मे अपना होस्टिंग भी इन्क्लूड होता है। लोग पहले अपना ब्लॉग स्टार्ट करने के लिए किसी एक चीफ होस्टिंग का होस्टिंग लेते हैं और अपना ब्लॉग का स्पीड 100 होना चाहिए इह तरह सोचते लेकिन यह गलत है।

आपको ये सब करने के बाद भी आपका साइट लोड होने मे ज्यादा समय लेता है तो ब्लॉग का स्पीड बढाने के लिए प्रिमियम होस्टिंग लेना जरूरी हे।होस्टिंग अच्छी हैं तो तो स्पीड संभाल पाएगा वरना ये सभी काम वेर्थ है।

आज हमने क्या सीखा

एक ब्लॉगर को अपना ब्लॉग का Google web core vitals के जो FID, LCP,और CLS का स्कोर कैसे कंप्रेस करना हैं और अपना ब्लॉग CLS,FID और LCP स्कोर कैसे बढाये ये सीखा है।

मेरा नाम Suresh Burla है और यह मेरा ब्लॉग वैबसाइट है जहा मै हिन्दी मे ब्लॉगिंग,शिक्षा,(Education)क्रिप्टोकरेंसी और एस.सी.ओ (seo)जैसी सारी जानकारी देता हूँ। मै कोशिश करूंगा की इस ब्लॉग के जरिये लोगो तक सही जानकारी हिन्दी भाषा मे प्राप्त हो सके । ! साइट पर आने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !

Leave a Reply

You cannot copy content of this page