Educational ब्लॉग कैसे बनाये?|Educational blog kaise banaye?

आज मै आपको ऐसे टॉपिक के बारे मे बतानेवाला हूँ जिससे आपका जिंदगी मे बदलाव आ सकता है।दोस्तों आज सब लोग ऑनलाइन पैसे कमाना चाहते हैं जिसके लिए ब्लॉगिंग, You tube और Freelancing जैसै क्षेत्र के ओर आकर्षित हो रहे हैं। जो लोग कॉमेरा फेस करने मे समर्थ है ऐसे लोग यूट्यूब के ओर चले गए।

जो कॉमेरा फेस करने असमर्थ है लेकिन उनके पास ऐसा बहुत कुछ है जो लोगोंको सीखना जरूरी है। इस विद्या को लोगोँ तक पहुंचाना बहुत जरूरी है, इसके इस लिए ब्लॉगिंग करने का फिल्ड चुने। पहले इस फिल्ड मे सक्सेस मिलना बहुत ही आसान था,लेकिन आज इस तरह तरह सफल नही हो पाते इसके पीछे बहुत सारे रीजन है।जैसे कि ब्लॉगिंग का टॉपिक कंटेंट पब्लिश करने का तरीका और गूगल मे कंटेंट की अभाव वगैर वगैरे।

आज मै आपको किस तरह Educational blog ब्लॉग बनाना चाहिए ये सारी बाते मै आपको EducAtional ब्लॉग कैसे बनाये?|Educational blog kaise banaye? इस पोस्ट मे बताने का कोशिश करूँगा।अगर आपको एक ब्लॉगर बनना है तो तो यह पोस्ट अंत तक पढना होगा।

यह भी पढे Technical seo कैसे करे?

Educational ब्लॉग कैसे बनाये?|Educational blog kaise banaye?

हमे एक Educational Blog बनाना है तो सबसे पहले कुछ बाते समझना बहुत जरूरी है।ऐसा नहीं की, किसी यूट्यूबर विडोंज देखकर ब्लॉग बना दे।ऐसा अगर करते है तो बादमे हमे ब्लॉगिंग का पूरा फंडा समझने के बाद पश्चाताप होगा।इसलिए यह काम करने के पहले ब्लॉगिंग के बारे मे भी जानना जरूरी है।

ब्लॉग का टॉपिक/नीश क्या है (Niche kya hai?) :-

दोस्तों ब्लॉगिंग मे ब्लॉग का नीश ( niche) को बहुत ही महत्व है, ब्लॉग पोस्ट रैंक करने के लिए ब्लॉग का नीश का बहुत बढा रोल है।इसलिए ब्लॉग बनने के के पहले सही ढंग से नीश का चयन करना होगा।”जिस टॉपिक पर ब्लॉग पोस्ट पब्लिश किया जाता है उसीको ही ब्लॉग नीश कहते है।”

नीश के प्रकार कोनसे कोनसे हैं?/Niche ke prakar konse konse hain?

नीश (niche)के भी अलग अलग (ब्लॉग) प्रकार हैं, ऐसे नही की नीश के कोई प्रकार ही नहीं है-

Macro nice:-

Macro niche वह होते जिसका व्याप्ति बढा होती है, जिसमे ब्लॉगर्स को लिखने के लिए थोडा आसान होगी।लिखने के लिए ब्लॉगर के ज्यादा सोचनेकी जरुरत नही है।ऐसा नहीं की कोई भी बिना तयारी के ब्लॉगिंग कर सकता है,किसी को भी कुछ लोगों को बताने के लिए, सिखाने के लिए पहले तयारी करना पढेगा। जैसे की macro नीश Digitale marketing की बात.करे तो digital marketing यह एक macro niche होगा। और Education की बात करे तो Education यह एक macro niche होगा।

यह भी पढे-ब्लॉग मे एक्स्ट्रनल लिंक कैसे लगाये?

Macro niche मे ब्लॉगिंग करना आसान है, लेकिन इसमे सफल होने के लिए थोडा समय जरूर लगता है।ऐसा नही की इसमे सफलता मिलती नही।सफलता तो मिलेगी इसमे सफलता मिलने के लिए आपको कंटीन्यू पोस्ट पब्लिश करना होगा।सफलता मिलने की कोई निश्चित सीमा नही है।हो सकता है एक साल मे ही सफलता मिल जाए। मै तो कहता हूँ तीन साल तक आपको काम करना पढेगा।

यह भी पढे:- ब्लॉग के लिए कस्टम इमेजेस कैसे बनाये?

कुछ यूट्यूबर कहते होंगे आपका ब्लॉग तीन महीने मे गूगल मे रैंक करेगा, लेकिन इसके उपर भरोसा करके इस फिल्ड मे मत आयीए।आपको ट्राफीक आने के लिए जरूर समय लगेगा यह मानकर इस फिल्ड मे आयीए। हां यह तो सही आप अगर तीन साल तक कंटीन्यू काम करते रहोगे तो सफलता एक दिन जरूर मिलेगी।

Micro niche;- 

Micro niche वह होता जिसमे ब्लॉगर macro niche के अंदर एक छोटासा टॉपिक पर ब्लॉग पोस्ट पब्लिश करते हैं।जैसे की mobile मे केवल sumsang फीचर के बारे मे पोस्ट पब्लिश करना।इस प्रकार नीश ब्लॉगिंग करने के एकदम सही जानकारी होना जरूरी है। इसलिए कहते हैं (micro niche ) मैक्रो नीश मे ब्लॉगिंग करना इतना आसान नहीं की,जितना की (macro niche)मॉक्रो नीश मे है।इसका मतलब यह बिल्कुल नही है इसमे ब्लॉगिंग करना मुश्किल है, बस आपको जिस सबजेक्ट मे महारथ हासिल है उस विषय के एक (micro niche) पर ब्लॉगिंग कर सकते हैं।

Micro niche ब्लॉग लिखते थे है तो आपको जल्दी सफलता मिल सकती है।इसमे आपको ब्लॉग बनाने के तुरंत बाद सफलता मिलेगी ऐसा बिल्कुल नही है।करीब करीब एक साल मे आप सफलता पा सकते है।इस प्रकार के ब्लॉग को गूगल जल्दी रैंक करता है।

अगर आप एक बिगिनर है यानी आपको ब्लॉगिंग का कोई अनुभव नही तो इसके पीछे पडने की जरूरत नही है। इस प्रकार के ब्लॉग मे लिखने के लिए कुछ लिमिटेशन होता है, लेकिन ब्लॉग मे हमे हमेशा पोस्ट पब्लिश करना होता है।इसे एक प्रकार से अति प्रोफेशनल ब्लब्लॉगिंग कह सकते है।इसलिए पहले पहले एक (macro niche) मॉक्रो नीश अपना ब्लॉग बना लीजिए, आखिर आपकी मर्जी।

Multi niches/ मल्टी नीशेस:-

Multi niche/ मल्टी नीशेस मे ब्लॉगर अलग अलग टटॉपिक पर आधारित कंटेंट अपने पब्लिश करते है।इस प्रकार के ब्लॉगर बहुत सारे टॉपिक पर लिखते है।इसमे पोस्ट लिखने के लिए कोई कमी नही रहता है।यानी कुल मिलाकर” Multi niches ब्लॉग वह होता है जिसमे ब्लॉगर अपने मन के मुताबिक ब्लॉग मे पोस्ट पब्लिश करते हैं” इसमे अलग अलग कॉटागिरी बनाके अलग अलग टॉपिक पर ब्लॉगिंग करता है इसलिए यह ब्लॉगिंग के दुनिया मे यह सबसे आसान प्रकार कह जा सकता है।

मल्टि नीशेस मे ब्लॉगिंग करना मतलब कुछ भी लिखना है ऐसा बिल्कुल नही है, ब्लॉगिंग मे कोई भी नीश हो हमे पोस्ट पब्लिश करने के लिए स्टडी तो करना ही पढेगा,क्योंकि जो ब्लॉग मे पब्लिश किया जाता है वह युजर के लिए यूजफुल होना ही चाहिए तभी तो गूगल ब्लॉग पोस्ट को रैंक करता है।क्वालिटी कंटेंट बगर आज गूगल मे रैंक करना मुश्किल ही नही नामुमकिन है।

मल्टी नीशेस ब्लॉग इसलिए आसान नहीं है कि, जिसमे ब्लॉगिंग करते समय ब्लॉगर को पोस्ट लिखने के लिए टेनशन नही क्योंकि किसी भी टॉपिक पर पोस्ट पब्लिश कर सकता है।इयना ही ट्रेडिंग टॉपिक पर ब्लॉग पोस्ट लिख के ट्राफीक ला सकते है।जैसे की मल्टी नीशेस की बात करे तो हमे इस तरीके का नीशेस (niches) का नाम ले सकते हैं Education, technology, digital marketing और Travels वगैरे वगैरे।

इस तरह का ब्लॉग बनाना काफी आसान है और इसके साथ साथ ब्लॉग मे पोस्ट भी पब्लिश करना भी आसान है।इसमे सफलता पाने के लिए काफी समय लग सकता है। एक बार यह ब्लॉग के पोस्ट गूगल मे रैंक हो गया तो इसमे ट्राफीक भी मैक्रोऔर मॉक्रो ब्लॉग से ज्यादा आयेगा,क्योंकि इसमे लोग अलग अलग किवर्ड से सर्च करके लोग आते हैं।इस वजहसे इसमे ट्राफीक ज्यादा रहने की चानसेस ज्यादा है।इस प्रकार का नीश बिगिनर के एकदम सही साबित होगा।

अभी हमे Educanational blog कैसे बनाना है यह जानना है चलिए बिना देर करते हुए Educational Blog काम कैसे करना चाहिए इसके ब बारे में मे जानते है।

Educational Blog मे कैसे काम करे?

चलो यह समझने की कोशिश करते है कि Educational Blog मे कैसे काम करे? इसमे काम करके पहले जरा सोचना चाहिए क्योंकि इस नीश पर पहले से गूगल हजारों ब्लॉग है जिनमे दिन मे हजाारो कं। कंटेट पब्लिश हो जाते हैं।जरा सोचिए ऐसे समय किसी नये ब्लॉगर को को अपने ब्लॉग के ब्लॉग पोस्ट गूगल रैैंक करना कितना मुश्किलहै?है ना?इसलिए आपको Educational Blog स्मार्टलि सोचना पढेगा वह कैसे? 

सही ढंग से नीश(niche)चुनना होगा:-

सही ढंग से नीश चुनना पढेगा Education मे बहुत सारे लिख सकते हैं लेकिन हमे किसी एक सबजेक्ट को चुनना पढेगा।ऐसा सबजेक्ट को चुनना होगा जिसमे हमे महारथ हासिल हो, इसमे कोई भी सबजेक्ट हो सकता है। जैसे की इतिहास, राज्यशास्त्र इकानामिक्स, गणित या फिर अंग्रेजी कोई भी हो कुछ भी फरक नही पडता बस आपको उस विषय मे कमांड होना जरूरी है।

आपको आपके ऑडीयान्स को अच्छी जानकारी प्रोवाइड करने के लिए आपके पास नालेज होना जरूरी है।आज गूगल पर हर सबजेक्ट को ढूंढते है अगर आपकी बताने की स्टैल ऑडीयान्स को अच्छी लगीं तो आपका ब्लॉग को सब्सक्राइब करेंगे और इस तरह आपका ऑडीयान्स बढ जाएंगे आपका ब्लॉग पापुलर हो जाएगा।

यह भी पढे-ब्लॉग मे infographics का कोड कैसे एंबेड करे?

पहले से शुरू (start)करे:-

जिस सबजेक्ट पर आपने ब्लॉग बनाया है उस सबजेक्ट के पहले से पोस्ट पब्लिश करना चालू करे।इससे ऑडीयान्स को अच्छा लगेगा और दुबारा आपके ब्लॉग को ढूंढते आयेगा।ऑडीयान्स को लगेगा फलाना फलाना ब्लॉग मे ब्लॉग पोस्ट सिस्टमेटिक पब्लिश करता है तो चलो फिर से एक बार विजीट करे ताकि हमे अच्छे पोस्ट पढने को मिले इस तरह सोचकर ऑडीयान्स आनेकी संभावना रहती है।

आप इतिहास के बारे मे लिखते है तो पहले इतिहास के कालखंड और इतिहास के बारे मे सही जानकारी ऑडीयान्स को प्रोवाइड करना चाहिए।जो भी सबजेक्ट हो आपको सही तरीके से जानकारी प्रोवाइड करना होगा।

ब्लॉग मे पी.डी.एफ फाईल का लिंक एड करे /Pdf files ad kare :-f

Educational Blog मे Pdffiles ad करना जरूरी है ,क्योंकि Educational blog ज्यादातर तर Students विजिट करता है। Students को किसी सबजेेेक्ट का Pdf file चाहीए होता है इसलिए pdf file ad करना हिही चाहिए।

Questions paper set:-

सबजेक्ट कोई भी हो हमेेेेेेेे question paper set का पी.डी.एफ. फाईल एड करना चाहिए याानी pdf file का download link देेनाा चाहिए।इससे आपका सबस्क्राइबर भी बढ जााएंगेे।बार बार आपके ब्लॉग विजिट करेेंगे।

English grammar book pdf file link:-

अगर आप अंगेजी के सबजेक्ट के उपर ब्लॉग बनाया है तो आप English grammar book का pdf file download लिंक देना चाहिए क्योंकि बहुत सारे बच्चे अभी ऑनलाइन ही किताबें सर्च करते है।इसलिए इस तरह की महत्त्वपूर्ण काम आपको करना ही पढेगा।

Maths का problem solution का pdf download लिंक देना चाहिए:-

आज बच्चे maths का solution ढुंढने के लिए ऑनलाइन सर्च करता है।तो इस समय किसी ब्लॉग मे उन्हे maths किसी प्राबलेम का सोल्युशन मिल जाए तो उनके लिए किसी वरदान से कम नही है।इसलिए हम इस तरह का काम करना चाहिए।

ब्लॉग पोस्ट लिखने का और समझाने का एक खुद का स्टैल अपनाना होगा:-

ब्लॉग पोस्ट लिखने का और समझाने के लिए हमे खुद का एक स्टैल तयार करना होगा. जिससे कि ऑडीयान्स को आपका ब्लॉग मे कुछ अलग नजर आए।हो सकता है आपका समझाने कि स्टैल लोगों को पस़द आये।किसी का बताने का स्टैल कभी भी बिल्कुल कापी नही करना चाहिए।

निष्कर्ष/समारोप:-

मै आपको आखिरकार यह बताना चाहूंगा किसी भी प्रकार का ब्लॉग हो, Educational Blog हो travel Blog हो या फिर और कुछ हो।आज कांपटीशन के वजहसे इस फिल्ड मे सक्सेस होना धीरे धीरे कठिन होता जा रहा है और इसी के साथ इंटरनेट का युज करनेवाले युजर भी काफी बढ रहे इसलिए कांपटीशन के साथ साथ करीयर की चानसेस भी बढती जा रही है।

ब्लॉगिंग मे Educational Blog की बात करू तो इसमे कभी भी ट्राफीक की समास्या ब्लॉगर्स को नही होनेवाला है।इसमे टुटोरियल जैसा कंटेंट नही रहता है इसलिए इसमे यानी इस नीश मे स्कोप हमेशा बना रहता है,बस हमे अपना कंटेंट के क्वालिटी और कंटेंट की युजरफ्रेंडली की ओर ध्यान देना होगा।

दोस्तो अगर आपको हमारे EducAtional ब्लॉग कैसे बनाये?|Educational blog kaise banaye? यह पोस्ट अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के बीच शेयर करे।

1 thought on “Educational ब्लॉग कैसे बनाये?|Educational blog kaise banaye?”

  1. मैं अभी एक नया ब्लॉगर हूँ और यूट्यूब से ब्लॉगिंग सीख रहा हूँ । मैने अपना एक ब्लॉग बनाया है जिसका नाम bloggers thinking है । मैने उसपर एक new post लिखी है, क्या आप बता सकते हैं कि उस (https://www.bloggersthinking.com/2021/06/blogger-vs-wordpress-in-hindi-blogger.html)पोस्ट में क्या कमी है ?

    Reply

Leave a Reply

%d bloggers like this: